Travel: मेघालय के इन दो झरनों को देखने के लिए एक बार जरूर जाएं

xx

मेघालय भारत का एक पूर्वोत्तर राज्य है। मेघालय में देखने लायक बहुत कुछ है। मेघालय बादलों और वर्षा झरनों का स्थान है। मेघालय की राजधानी शिलांग है। इस जगह में झरनों का साम्राज्य है। सबसे बड़े और सबसे खूबसूरत झरने नोहकलिकाई और लोंग्जियांग हैं।

dgd

1 नोहकलिकाई जलप्रपात - यह जलप्रपात भारत के पूर्वोत्तर राज्य मेघालय के पूर्वी खासी हिल्स जिले में स्थित है। यह जलप्रपात करीब 340 मीटर ऊंचा है। यहां 12 महीने बारिश होती है क्योंकि चेरापूंजी में है। यह भारत में सबसे अधिक वर्षा प्राप्त करता है। इसलिए यहां का माहौल खुशनुमा होता है। झरना हमेशा बहता रहता है क्योंकि यहां लगातार बारिश हो रही है।

fdh

2 लोंग्जियांग फॉल्स - यहां 337 मीटर ऊंचा लॉन्गजियांग फॉल्स भी है। झरना ऊंची पहाड़ियों और जंगल के रास्तों से होकर गिरता है। इसके अलावा पूर्वी खासी हिल्स जिले में नोहसंगितिग जलप्रपात है। यह लगभग 315 मीटर ऊंचा है। इस जलप्रपात को सेवन सिस्टर वाटर फॉल्स या मसमाई फॉल्स के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि यह जलप्रपात सात भागों में बंटा हुआ है। यह मसमाई गांव से लगभग 1 किमी दूर है। मेघालय में चेरापूंजी में पूर्वी खासी पहाड़ी पर स्थित कैनरेम जलप्रपात यहां का एक अन्य जलप्रपात है। जलप्रपात लगभग 305 मीटर ऊँचा है। चेरापूंजी से 12 किमी की दूरी पर थांगखरंग पार्क भी है। कायनारायण जलप्रपात भी है।

From around the web